education

Lovely message

💕💫

Lovely message :

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

कुए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है,

तो भरकर बाहर आती  
जीवन का भी यही गणित है,

जो झुकता है वह

प्राप्त करता है…

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

जीवन में किसी का भला करोगे,

तो लाभ होगा…

क्योंकि भला का उल्टा लाभ होता है ।

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

और

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

जीवन में किसी पर दया करोगे,

तो वो याद करेगा…

क्योंकि दया का उल्टा याद होता है।

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

भरी जेब ने ‘ दुनिया ‘ की पहेचान करवाई और खाली जेब ने ‘ इन्सानो ‘ की.

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

जब लगे पैसा कमाने, तो समझ आया,

शौक तो मां-बाप के पैसों से पुरे होते थे,
अपने पैसों से तो सिर्फ जरूरतें पुरी होती हैl

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

किनारे पर तैरने वाली लाश को देखकर ये समझ आया .. 

..बोझ शरीर का नही साँसों का था..

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

सर झुकाने से नमाज़ें अदा नहीं होती…!!!

दिल झुकाना पड़ता है इबादत के लिए…

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

पहले मैं होशियार था,

इसलिए दुनिया बदलने चला था,

आज मैं समझदार हूँ,

इसलिए खुद को बदल रहा हूँ.

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

 बैठ जाता हूं मिट्टी पे अक्सर…

क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है.

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

मैंने समंदर से सीखा है जीने का सलीक़ा,

चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना. 

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃

 〰➰💖➰〰➰💖➰〰

               प्रेम चाहिये तो 

       समर्पण खर्च करना होगा।

            विश्वास चाहिये तो 

        निष्ठा खर्च करनी होगी।

              साथ चाहिये तो 

        समय खर्च करना होगा।

            किसने कहा रिश्ते 

               मुफ्त मिलते हैं ।

    मुफ्त तो  हवा भी नहीं मिलती 

       एक साँस भी तब आती है 

    जब एक  साँस छोड़ी जाती हे

〰➰💖➰〰➰💖➰〰……

🌺 कुछ अच्छी लाइने 🌺
💟💟💟💟💟💟💟💟💟
नज़र और नसीब का कुछ ऐसा इत्तेफाक हैं कि नज़र को अक्सर वही चीज़ पसंद आती हैं; जो नसीब में नहीं होती:! और नसीब में लिखी चीज़ अक्सर नज़र नहीं:!!

💟💟💟💟💟💟💟💟💟
मैंने एक दिन खुदा से पुछा: आप मेरी दुआ उसी वक्त क्यों नहीं सुनते; जब मैं आपसे मांगता हूँ? खुदा ने मुस्कुरा कर कहा: मैं तो तेरे गुनाहों की सजा भी उस वक्त नहीं देता जब तू करता हैँ:!!

💟💟💟💟💟💟💟💟💟
किस्मत पहले ही लिखी जा चुकी है; तो कोशिश करने से क्या मिलेगा? क्या पता किस्मत में लिखा हो कि कोशिश से ही मिलेगा:!!

💟💟💟💟💟💟💟💟💟
ज़िन्दगी में कुछ खोना पड़े तो यह दो लाइन याद रखना: ‘जो खोया है उसका ग़म नहीं लेकिन जो पाया है वो किसी से कम नहीं:!’ ‘जो नहीं है वो एक खवाब हैं; और जो है वो लाजवाब है:!!’

💟💟💟💟💟💟💟💟💟
इन्सान केहता है कि पैसा आये तो मैं कुछ करके दिखाऊ; और पैसा केहता हैं कि तू कुछ करके दिखाए तो मैं आऊ:!

💟💟💟💟💟💟💟💟💟 
बोलने से पेहले लफ्ज़ आदमी के गुलाम होते हैं; लेकिन बोलने के बाद इंसान अपने लफ़्ज़ों का गुलाम बन जाता हैँ:!!

💟💟💟💟💟💟💟💟💟
ज्यादा बोझ लेकर चलने वाले अक्सर डूब जाते हैं; फिर चाहे वो अभिमान का हो; या सामान का:!! 💟💟💟💟💟💟💟💟💟
जिन्दगी जख्मो से भरी हैं; वक़्त को मरहम बनाना सिख लें; हारना तो है मोतके सामने; फ़िलहाल जिन्दगी से जीना सिख लें:!!

💟💟💟💟💟💟💟💟

पहली बार किसी कविता को पढ़कर आंसू आ गए ।*😔😔
*दुध पिलाया जिसने छाती से निचोड़कर*

*मैं* *”निकम्मा, कभी 1 ग्लास पानी पिला न सका ।* 😭
*बुढापे का “सहारा,, हूँ* *”अहसास” दिला न सका*

*पेट पर सुलाने वाली को* *”मखमल,* *पर सुला न सका ।* 😭
*वो “भूखी, सो गई “बहू, के “डर, से एकबार मांगकर*

*मैं “सुकुन,, के “दो, निवाले उसे खिला न सका ।*😭
*नजरें उन “बुढी, “आंखों से कभी मिला न सका ।*

*वो “दर्द, सहती रही में खटिया पर तिलमिला न सका ।* 😔
*जो हर “जीवनभर” “ममता, के रंग पहनाती रही मुझे*

*उसे “दिवाली  पर दो “जोड़ी, कपडे सिला न सका ।* *😭*
*”बिमार बिस्तर से उसे “शिफा, दिला न सका ।*

*”खर्च के डर से उसे बड़े* *अस्पताल, ले जा न सका ।* 😔
*”माँ” के बेटा कहकर “दम,तौडने बाद से अब तक सोच रहा हूँ*,

*”दवाई, इतनी भी “महंगी,, न थी के मैं ला ना सका* । 😭
*माँ तो माँ होती हे भाईयों माँ अगर कभी गुस्से मे गाली भी दे तो उसे उसका “Duaa”* *समझकर भूला देना चाहिए*|✨,, ✨ 
*मैं  यह वादा करता  अगर यह पोस्ट आप दस ग्रुप मे भेजोगे तो कम से कम दो लड़के ईस पोस्ट को पढ कर अपनी माँ के बारे मे सोचेंगे जरुर!!!!!!!!* 😔

…..इसे  मेसेज  को   हर  ग्रुप  मे  भेजो ….जिसने    नही   भेजा  वो   💕” माँ “💕  से   प्यार   नही   करता  ह  .)💙

Advertisements
Standard

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s